Google cracks down on unexpected, misleading ads on Play

1 of 1





नई दिल्ली । गूगल प्ले स्टोर पर यूजर्स के लिए हाई-क्वोलिटी वाले अनुभव सुनिश्चित करने के लिए कई अन्य नए विज्ञापन दिशानिर्देशों के साथ-साथ एंड्रॉइड गेम खेलते समय यूजर्स द्वारा सामना किए जाने वाले अप्रत्याशित, सताने वाले विज्ञापनों पर नकेल कस रहा है।

30 सितंबर से प्रभावी, डेवलपर्स सभी फॉर्मेटस (वीडियो, जीआईएफ, स्थिर, आदि) के फुल-स्क्रीन विज्ञापन नहीं दिखा सकते हैं, जो अप्रत्याशित रूप से प्रदर्शित होते हैं, आमतौर पर जब उपयोगकर्ता ने कुछ और करना चुना हो।

ऐसे विज्ञापन यूजर्स के लिए अप्रत्याशित होते हैं, क्योंकि वे इसके बजाय कोई गेम शुरू करने या कंटेंट में संलग्न होने की अपेक्षा करते हैं।

गूगल ने कहा, “15 सेकंड के बाद बंद करने योग्य सभी फॉर्मेटस के फुल स्क्रीन विज्ञापनों की अनुमति नहीं है।”

गूगल ने कहा, “ऑप्ट-इन फुल स्क्रीन इंटरस्टिशियल या फुल स्क्रीन इंटरस्टिशियल जो यूजर्स को उनके कार्यो में बाधित नहीं करते हैं (उदाहरण के लिए, गेम ऐप में स्कोर स्क्रीन के बाद) 15 सेकंड से अधिक समय तक जारी रह सकते हैं।”

यह नीति पुरस्कृत विज्ञापनों, मुद्रीकरण और विज्ञापनों पर लागू नहीं होती है जो सामान्य ऐप उपयोग या गेम खेलने में हस्तक्षेप नहीं करते हैं।

1 नवंबर से प्रभावी, गूगल प्ले पर वितरित सभी ऐप्स को सुरक्षा और गोपनीयता उद्देश्यों के लिए अन्य ऐप्स की फ्लैग सिक्योर घोषणा का सम्मान करना आवश्यक है।

कंपनी ने कहा, “ऐप्स को अन्य ऐप्स में फ्लैगसिक्योर सेटिंग्स को बायपास करने के लिए वर्कअराउंड की सुविधा या निर्माण नहीं करना चाहिए।”

फ्लैगसिक्योर ऐप के कोड में घोषित एक डिस्प्ले फ्लैग है जो यह दर्शाता है कि इसके यूजर इंटरफेस (यूआई) में संवेदनशील डेटा है जो ऐप का उपयोग करते समय एक सुरक्षित सतह तक सीमित है।

गूगल 31 अगस्त से किसी अन्य व्यक्ति (किसी अन्य डेवलपर, कंपनी, इकाई) या किसी अन्य ऐप का रूप धारण करके यूजर्स को गुमराह करने वाले ऐप्स की अनुमति नहीं देगा।

–आईएएनएस

ये भी पढ़ें – अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

loading…

You May Also Like

About the Author: AKDSEO